Saturday, November 3, 2018

भारत की झीलें भारत में भी बहुत सी जिले हैं एक दूसरे से आकार तथा अन्य लक्षणों में

भारत में भी बहुत सी जिले हैं एक दूसरे से आकार तथा अन्य लक्षणों में भिन्न है अधिकतर जिन्हें स्थाई है तथा कुछ में केवल वर्षा ऋतु में ही पानी होता है कुछ का निर्माण विमानों से तो कुछ का निर्माण भाइयों नदियों एवं मानवीय क्रियाकलापों के कारण हुआ है
मीठे पानी की अधिकांश फिल्म हिमालय क्षेत्र में अवस्थित है सिल्वर तथा मिट्टी से हिमानी मार्ग अवरुद्ध होने के पश्चात यह अनुमान ईमेल से भर जाता है इस तरह की कुमायूं हिमालय में पाई जाती है इंदल राक्षस ताल नैनीताल नोकिया ताल भीमताल आदि प्रमुख है वो पृष्ठ के नीचे दबने से कश्मीर के प्रसिद्ध वेल्लूर झील का निर्माण हुआ है ज्वालामुखी के शांत होने के पश्चात उन्हें में वर्षा जल एकत्रित होने से लोनार झील का निर्माण हुआ है नदियों के मुहाने पर समुंदर की धाराएं बालू मिट्टी के टीले बनाकर जल क्षेत्र को समुंदर से अलग कर देती है

एशियन उप जेल भारत के समुद्री तटों पर बहुतायत से मिलती है उड़ीसा की चिल्का होम लोन की पूरी निकट में आंध्र प्रदेश की कुल लुलुलुलु इसके उदाहरण हैं पश्चिमी राजस्थान के मरुस्थलीय क्षेत्र में बालू मिट्टी के टीलों के बीच की भूमि में वर्षा जल के बाहर जाने से भी जिले बन जाती है उस सांभर डीडवाना लोधी जिले हैं राजस्थान में ढूंढा जाता है 1818 ईस्वी में अलकनंदा नदी के मार्ग में पहाड़ी दाल से सैलून के खिसकने से गोहना झील का निर्माण हुआ मैदाने प्रदेशों में डाल के अभाव के चलते जब नदी विसर्प आकार उम्र में जिम में जिम में बैठी है तू साधन या कुकुरा कारगिल बनती है बाढ़ के समय उनमें पुणे जल भर आता है गंगा में ब्रह्मा की मस्ती में इस प्रकार की जिला पाई जाती है

राजस्थान की नदियां राजस्थान में वर्ष भर बहने वाली नदी के बच्चे राजस्थान में अरावली श्रेणी जल विभाग का कार्य करती है यहां के अकरम को सामान्य रूप से तीन भागों में बांटा गया है सागर और बंगाल की खाड़ी का आंतरिक अपवाह क्रम
. अरब सागरीय अपवाह क्रम इससे लूनी माही वे साबरमती नदियां संबंधित है लोनी में मणिपुर में लूनी नदी अजमेर के नाच पार्टी से निकलती है यह कच्छ की खाड़ी में गिरती है नदी मध्य प्रदेश के इंदौर जिले से निकलती है खंभात की खाड़ी में गिरती है डूंगरपुर बांसवाड़ा जिला बांसवाड़ा के पास माही बजाज सागर बांध बनाया गया है इस की सहायक नदियां सॉन्ग अम्मा जाखम आदि है

बंगाल की खाड़ी का अपवाह क्रम इस करम की समस्त नदियां यमुना में मिलती है उससे प्रमोद के चंबल बनास एवं बाणगंगा नदियां संबंधी दे चंबल नदी मध्य प्रदेश में महू के समीप जानापाव कार्यों से निकलती है यह 84 गढ़ के पास राजस्थान में प्रवेश करती चित्तौड़ कोटा से सवाई माधोपुर में बैठी हुई उत्तर प्रदेश के मुरादगंज के पास जमुना में मिल जाती है इस पर गांधी सागर राणा प्रताप सागर जवाहर सागर बांध कोटा बैराज बने हुए हैं बनास नदी कुंभलगढ़ के पास से निकलती है इस जिले में रामेश्वर के पास में मिल जाती है इस पर बीसलपुर बांध बनाया गया है गंभीर कोठारी कालीसिंध पार्वती आदि है

आंतरिक अपवाह क्रम इनमें जो किसी स्थान से आरंभ होकर तक नहीं पहुंच पाती यह कुछ दूर देने के बाद भी लुप्त हो जाती है यह है कुछ पहनने के बाद विलुप्त हो जाती है सरस्वती कांचली कांगी गगर साबी ममता आदि ऐसी न दिया है मंथा नदी सांभर झील में विलेन हो जाती है
Share:

0 comments:

Post a Comment

Recent Posts

Copyright © New gk jod | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com