Friday, November 2, 2018

प्राचीन भारत में गणतंत्र एवं स्थानीय स्वशासन व्यवस्था

 स्थानीय स्वशासन की भारत में परंपरा से रही है पंचायत सब स्थानीय क्षेत्र के लोगों द्वारा चयनित पहुंच व्यक्तियों के एक समूह की प्रणाली को बताते हैं जिसके द्वारा सिंह की ग्रामीण जनता को सूचित किया जाता था पंचायत स्वशासन की मनोवृत्ति को इंगित करता है इतिहास के विभिन्न काल खंडों में शासकों के उत्थान पत्थर तथा सामाजिक व आर्थिक व्यवस्था में परिवर्तन के उपरांत भी इन संस्थाओं का प्रभाव अब तक किसी न किसी रूप में बना हुआ है प्राचीन भारत में राज्य शासन प्रणाली के साथ व्यवस्था भी प्रवर्तित थी जिसके अंतर्गत राजा का चयन स्थानीय समुदाय के द्वारा किया जाता था भारतीय इतिहास का प्रारंभिक साहित्य को रेखांकित करता है कि उसमें छोटे-छोटे गणराज्य से कौन सी कौशल आनंद वैश्य विराट शादी होते थे

Share:

0 comments:

Post a Comment

Recent Posts

Copyright © New gk jod | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com