Wednesday, October 31, 2018

राजस्थान के वीरों की वीर गाथा सूरजमल जाट

धरती राजस्थान री

    राजस्थान का इतिहास यह बताता है कि हमारा राजस्थान एक मरू प्रदेश है और उसकी धरती ने अनेक वीर पुरुषों और सत्यवादी पुरुषों को जन्म दिया है यह वीरों की जननी भी कहलाती है राजस्थान में अनेक हीरो ने जन्म लिया था उन वीरों में से मुख्य वीर पुरुषों की गाता निम्नलिखित है

राजा सूरजमल जाट 

      राजा सूरजमल जाट का जन्म लोहागढ़ भरतपुर में हुआ था यह जाट समाज के महान राजा भी थे शूरवीर थे इनका इतिहास राजस्थान में उभर कर आया है महाराजा सूरजमल जाट ने लोहागढ़ में लोहा गढ़ किले का निर्माण करवाया जो राजस्थान का अजय दुर्ग है इस दुर्ग को आज तक कोई जीत नहीं पाया महाराजा सूरजमल जाट ने मुगलों अब गानों के बीच के युद्ध लड़े वे राजपूत राजाओं से भी लड़ा |

     महाराजा सूरजमल जाट ने बचपन में भी अपनी वीरता शौर्य दिखाना प्रारंभ कर दिया था जब महाराणा सूरजमल जाट बढ़े हुए तो उन्होंने जयपुर के राजा जयसिंह से दोस्ती की महाराजा सूरजमल जाट वह जयसिंह के बीच बहुत अच्छी मित्रता थी और दोनों इस मित्रता को निभाने के लिए एक दूसरे के प्राण न्योछावर करने के लिए तैयार थे दोनों एक दूसरे के संकट में काम आते थे एक दूसरे की सहायता करते थे

      जब जयपुर के राजा जय सिंह के दो पुत्र थे जिनमें ऐश्वर्या सिंह बड़ा बेटा था महाराजा सूरजमल जाट चाहते थे की जय सिंह के भाव जयपुर की राजगद्दी पर ऐश्वर्या सिंह ही बैठे हैं लेकिन ऐश्वर्या सिंह का छोटा भाई राजगद्दी प्राप्त करना चाहता था कुछ समय पश्चात जयपुर के राजा जय सिंह की मृत्यु हो गई

      जय सिंह की मृत्यु के बाद महाराजा सूरजमल जाट ने ऐश्वर्या सिंह का राजतिलक किया और जयपुर का राजा घोषित कर दिया लेकिन ऐश्वर्या सिंह के छोटे भाई के के दिल में यह बात कंटे सी चुभने लगी और उसे यह सहन नहीं हुआ और ऐश्वर्या सिंह के छोटे भाई ने कहीं राजपूत राजाओं से मित्रता की तथा ऐश्वर्या सिंह से युद्ध करने की नीति बनाई

     ऐश्वर्या सिंह को जब पता चला कि उसका छोटा भाई उसके साथ एक बहुत बड़ी रणनीति तैयार कर रहा है तो ऐश्वर्या सिंह ने सूरजमल जाट से निवेदन किया कि वह मेरी तरफ से यह युद्ध लड़ेंगे सूरजमल जाट ने यह प्रस्ताव स्वीकार किया

     कुछ दिनों बाद कई राजपूत राजाओं ने जयपुर पर आक्रमण बोल दिया ऐश्वर्या सिंह घबरा गया और महाराजा सूरजमल जाट को पैगाम भेजा और कहा कि जयपुर पर कई राजपूत राजाओं ने मिलकर उसके छोटे भाई के साथ हमला बोल दिया है जयपुर चारों ओर से गिर चुका है तब सूरजमल जाट ने अपनी पूरी सेना लेकर ऐश्वर्या सिंह की सहायता के लिए जयपुर पहुंचे घमासान युद्ध हुआ यह युद्ध 7 दिन तक चला इस युद्ध में बी ऐश्वर्या सिंह जी जीत हुई

       इस युद्ध के बाद ऐश्वर्या सिंह ओर सूरजमल जाट के बीच एक प्रेम की नई चेतना शुरू हुई धीरे-धीरे ऐश्वर्या सिंह और सूरजमल जाट मिलकर मुगलो और अब गाना उसको खदेड़ ते हुए दिल्ली पर हमला बोल दिया महाराजा सूरजमल जाट ने कई अफगान ओ को हराकर अपने राज्य में मिला लिया उन्होंने दिल्ली पर आक्रमण बोलकर दिल्ली पर उन्होंने अपना परचम पहनाया और उन्होंने दिल्ली को भी जीत लिया

   महाराजा सूरजमल जाट अंत तक अपनी मातृभूमि के लिए लड़ते लड़ते अपने प्राण न्योछावर कर दिए
Share:

0 comments:

Post a Comment

Recent Posts

Copyright © New gk jod | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com